Monday, May 3, 2021
Home सीतामढ़ी एक बकरे की कीमत हुई 15000 पार । बकरीद पर्व कल ,...

एक बकरे की कीमत हुई 15000 पार । बकरीद पर्व कल , घरों में ही दी जाएगी नमाज,

बकरीद पर्व कल , घरों में ही दी जाएगी नमाज

एक बकरे की कीमत हुई 15000 पार

सीतामढ़ी जिले से तुलसी की रिपोर्ट

ईद -उल- अजहा के नाम से मुसलमान भाइयों का यह त्यौहार कुर्बानी के पर्व के तौर पर मनाते हैं, इस दिन मुस्लिम लोग नमाज अदा करने के बाद बकरे की कुर्बानी देते हैं।

कल शनिवार को बकरीद पर्व भारतवर्ष के साथ सीतामढ़ी जिले में भी मनाया जाएगा। इसके लिए मुसलमान भाई सभी तैयारियां पूरी कर रहे हैं इस बार वैश्विक महासंकट कोरोना काल को देखते हुए सरकार के द्वारा तथा जिला प्रशासन सीतामढ़ी के द्वारा अपिल किया गया है कि मुसलमान भाई अपने अपने घरों में ही नमाज अदा करेंगे, ईदगाहों पर नहीं जाएंगे, तथा कुर्बानी का पर्व अपने घर पर हर्षोउल्लास व सादगी के साथ मनाएं।

गौरतलब हो कि मीठी ईद के तकरीबन 70 दिनों के बाद बकरीद पर्व कल शनिवार को जिले भर में मनाया जाएगा, मगर इस बार अन्य त्योहारों की तरह कोरोना काल तथा लॉक डाउन होने के कारण बकरीद पर्व का त्यौहार का रंग भी फीका पड़ने लगा है, क्योंकि खास लोग कुर्बानी में शरीक नहीं हो सकते।

गौरतलब हो कि दरअसल बकरीद त्यौहार अपने सबसे अजीज चीज अल्लाह पर कुर्बान कर देने का त्योहार है लेकिन बकरे की कुर्बानी के पीछे एक ऐतिहासिक घटना भी है इसलिए मुसलमानों के द्वारा इस दिन बकरे की कुर्बानी को सबसे अहम माना जाता है ।इस्लामिक मान्यताओं में हजरत इब्राहिम को अल्लाह का पैगंबर बताया जाता है ,इब्राहिम ताउम्र दुनिया की भलाई के कार्यों में जुटे रहे, उनका जीवन जनसेवा और समाज सेवा में ही बीता था इसीलिए हजरत इब्राहिम को अल्लाह कहते हैं।

बकरीद के दिन बकरे की कुर्बानी की जाती है इसको लेकर संपन्न मुसलमान भाई बकरे की खरीद में लग गए हैं । बकरे की कुर्बानी के उपरांत इसे तीन भागों में बांट कर इसका वितरण किया जाता है।

अफसोस है कि विगत पांच छह माह से लॉक डाउन व कोरोना काल चल रहा है, ऐसे में गरीब एवं मध्यम वर्गीय मुसलमान भाइयों की आर्थिक स्थिति दयनीय होने के चलते तथा बकरों की महंगाई को देखते हुए कुर्बानियों पर असर पड़ने की उम्मीद है। हालांकि संपन्न परिवार लोग बकरे खरीद में व्यस्त है। फिर भी अल्लाह को खुश करने को लेकर ,बकरे की कुर्बानी को लेकर मुस्लिम समुदाय के लोग यथासंभव बकरे की खरीद में लगे हुए हैं।

शहर के अलीनगर स्थित मोहम्मद सरफराज ,मोहम्मद कमरुल होदा, मोहम्मद जफरूला आदि ने बताया है कि इस बार महंगाई चरम पर है एक बकरे जो तकरीबन 15000 की मूल्य देकर कुर्बानी के लिए खरीदा है, हष्ट पुष्ट बकरे की कीमत 10000 से लेकर 20000 तक बिक रहे है अपने सामर्थ्य के अनुसार लोग खरीद रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

महमदपुर नरसंहार के खिलाफ श्री राजपूत करणी सेना ने हत्यारें का सिर कलम करने पर 5 करोड़ का रखा इनाम।

बिहार के सभी निजी और सरकारी स्कूल दिनांक 19 जून 2021 से 15 जून 2021 तक रहेंगे बंद । इस विषय के साथ वायरल...

सोशल मीडिया पर बिहार विद्यालय शिक्षा बोर्ड के द्वारा जारी किया गया एक लेटर बहुत ही तेजी से वायरल हो रहा है...

भोजपुरी अभिनेता खेसारी लाल यादव के ऊपर लखनऊ में हुआ केस दर्ज। फ़िल्म निर्माता के बेटे को धमकाने का है आरोप

भोजपुरी अभिनेता खेसारी लाल यादव ने फिल्म निर्माता के बेटे को धमकाया, लखनऊ में केस दर्ज-----------------------------------✍️गुड़ंबा कोतवाली में भोजपुरी फिल्म अभिनेता शत्रुघन...

सीतामढ़ी जिले के चोरौत प्रखंड की बेटी रिंकू कुमारी अब बिहार से कई सौ किलोमीटर दूर भारत के असम बॉर्डर पर रहकर करेगी...

चोरौट:- आप सभी को यह बताते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि अभी कुछ ही दिन पहले एसएससी जीडी 2018 का...

Recent Comments