Wednesday, March 3, 2021
Home चोरौत पीएमसीएच चोरौत के नर्सेज ,आशा और आंगबाड़ी के सदस्यो के साथ मिलकर...

पीएमसीएच चोरौत के नर्सेज ,आशा और आंगबाड़ी के सदस्यो के साथ मिलकर केयर इंडिया के सदस्यो ने सकरम में निकाली परिवार नियोजन योजना के लिए जागरुकता रैली।

PMCH चोरौत के डॉक्टर, नर्सेज, आशा और आंगबाड़ी के सदस्यों ने मिलकर सकरम के आंगनवाड़ी केंद्र पर निकला परिवार नियोजन योजना के लिए जागरुकता रैली।

चोरौत:-
सकरम आंगनवाड़ी

Vipin Kumar pandey G


सकरम , चोरौत :- देश में बढ़ती जनसंख्या को नियंत्रित करने के लिए हर तरफ से परिवार नियोजन को बढ़ावा दिया जाने लगा है । इसी के तहत 15जनवरी से 31 जनवरी के बीच चलने वाले परिवार नियोजन योजना अभियान के तहत आज सकरम के आंगनवाड़ी केंद्र पर वहां के आशाओ पीएमसीएच के डॉक्टर , केयर इंडिया के सदस्य और आंगनवाड़ी के सेविकाओं और वहां के आम महिलाओं के द्वारा परिवार नियोजन योजना के लिए जागरूकता रैली निकाली गई । लोगों को जागरूक किया गया । रैली की अगुआई केयर इंडिया के ब्लॉक मैनेजर अभिमन्यु कुमार कर रहे थे। मि. अभिमन्यु ने वहां के आशा और सेविका के साथ मिलकर गांव की महिलाओं को संबोधित करते हुए जागरूक किया कि कैसे एक परिवार को एक सुखद परिवार में तब्दील किया जा सकता है । अभिमन्यु जी के द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार मां बनने की जो सबसे सही उम्र है वो है 21 साल , उन्होंने बताया कि परिवार जितना छोटा होगा उतना ही सुखद होगा । उनका कहना था कि बच्चे दो ही अच्छे । क्यूंकि जब परिवार बड़ा हो जाता है तो फ़िर उनका पालन पोषण उस ढंग से नहीं हो पाता जिस हिसाब से होना चाहिए । अभिमन्यु ने बताया कि ये जागरुकता रैली 15 जनवरी से 31 जनवरी तक चलाया जाएगा । इस पूरे 15 दिन के पखवाड़े में रोज अलग अलग गांव में जाकर लोगों को जागरुक किया जाएगा

वहां की आशा और आंगनवाडी केन्द्र की सेविका ने संयुक्त रूप से महिलाओं को जागरूक करते हुए कहा कि एक बेहतर परिवार के लिए सबसे पहला जो काम है वो है परिवार नियोजन यानी हम दो हमारे दो
उसके बाद उन्होंने कहां कि इसमें भी कंडीशन है । हमें इन दोनों बच्चो के बीच का जो अंतर है उसे कम से कम तीन साल का अंतर रखना चाहिए । इसका फायदा ये होता है कि जब कोई लड़की मां बनती है तो सबसे ज्यादा तकलीफ़ उस मां को ही होती है । और यदि हम दो बच्चो के बीच के अंतर को 3 साल रखते है तो इसका मतलब है कि हम पूर्ण रूप से विकसित है । इस बीच जो पहला बच्चा है उसे भी एक बेहतर परिवार मिलता है। किसी बच्चे को कम से कम अगर ढाई साल तक मां का दूध मिल जाता है पीने को मतलब वो बच्चा बिल्कुल सही और विकसित हो जाएगा।

अतः आप सभी महिलाओं और समाज के लोगों से निवेदन है कि अच्छे स्वास्थ्य और अच्छे परिवार के लिए जरूरी है कि पहला कदम परिवार नियोजन की तरफ बढ़ाए।

बेटे या फिर बेटी की चाह में परिवार ना बढ़ाए परिवार नियोजन योजना को अपनाए ,

एक सभ्य नागरिक होने की जिम्मेदारी को निभाए , और परिवार नियोजन योजना को अपनाए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

दिल्ली से दरभंगा तक अपने बीमार पिता को साईकल पर बिठाकर लॉक डाउन में गाँव पहुँचने वाली साईकिल गर्ल ज्योति को मिला राष्ट्रीय बाल...

दरभंगा से news bihar 24 के लिए राम शरणागत मिश्र की रिपोर्ट दरभंगा प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2021...

जिया हो बिहार के लाला!:नाज करेगा सीतामढ़ी; कैप्टन कमरुल जमां राजपथ पर ब्रह्मोस दस्ते को लीड करेंगे; अब्बू-अम्मी ने कर्ज ले पढ़ाया था

जिया हो बिहार के लाला!:नाज करेगा सीतामढ़ी; कैप्टन कमरुल जमां राजपथ पर ब्रह्मोस दस्ते को लीड करेंगे; अब्बू-अम्मी ने कर्ज ले पढ़ाया

चोरौत में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 वीं जयंती पर आयोजित किया गया प्रतियोगता परीक्षा और बच्चो को किया गया सम्मानित

चोरौत:- नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर बहुत ही धूम धाम से उनके चित्रछाया पर पुष्प अर्पित कर उनकी...

चॉरौत के सकरम गांव के एक घर में हजारों की चोरी

सकरम:- पिछली रात जब सारा गांव सो गया तब सकरम के शिव मंदिर के पास स्थित रामाश्रय मिश्र के घर में चोरो...

Recent Comments