Monday, May 3, 2021
Home गया बिहार के एक और नए दशरथ मांझी की कहानी जिसने अकेले ही...

बिहार के एक और नए दशरथ मांझी की कहानी जिसने अकेले ही तीन किलोमीटर लंबी नहर खोद दिया

बिहार के एक और नए दशरथ मांझी की कहानी जिसने अकेले ही तीन किलोमीटर लंबी नहर खोद दिया

ANI के खबरों के मुताबिक

देश  Reported by ANI

बिहार के दूसरे 'दशरथ मांझी', 30 सालों की कड़ी मेहनत से सिंचाई के लिए खोद डाली 3KM लंबी नहर

गया : बिहार के गया जिले के एक शख्स ने अपनी कड़ी मेहनत और लगन से यह साबित कर दी अगर हिम्मत हो तो कोई भी काम मुश्किल नहीं है. गया के लहटुआ इलाके के कोठीलवा गांव निवासी लौंगी भुइयां ने 30 सालों की मेहनत से तीन किलोमीटर लंबी नहर बना डाली ताकि बारिश का पानी पहाड़ी से गांव के खेतों में पहुंच सके. इससे, ग्रामीणों का काफी लाभ होगा. लौंगी भुइयां ने नहर खोदने का काम अकेले किया. भुईयां ने कहा, “गांव के एक तालाब तक पानी ले जाने वाली इस नहर को खोदने में मुझे 30 साल लग गए.”

लौंगी भुइयां ने बताया, “पिछले 30 सालों से, मैं अपने मवेशियों को लेकर जंगल जाता और नहर खोदने का काम करता. कोई भी मेरे इस प्रयास में शामिल नहीं हुआ… गांव के लोगों को अजीविका कमाने के लिए शहर जाना पड़ रहा है, लेकिन मैंने यहीं रहने का फैसला किया.” 

कोठिलवा गांव गया के जिला मुख्यालय से लगभग 80 किमी दूर है और घने जंगल और पहाड़ों से घिरा हुआ है. इसका मतलब है कि यहां के लोगों के अजीविका का मुख्य साधन खेती-किसानी और पशुपालन ही है. यह गांव माओवादियों की शरणस्थली के रूप में चिह्नित है.

दरअसल, बारिश के मौसम में, पहाड़ों से गिरने वाला पानी नदी में बह जाता था. यह बात भुइयां को परेशान करती थी. उन्हें लगता था कि यह पानी अगर खेतों में आ सके तो इससे गांववालों की कितनी मदद होगी. इसी को ध्यान में रखते हुए उन्होंने नहर खोदने का सोचा. 

एक ग्रामीण पट्टी मांझी ने कहा, “लौंगी भुईयां पिछले 30 सालों से अकेले नहर बनाने के काम में लगे हुए हैं. उनके इस प्रयास न सिर्फ बड़ी संख्या में जानवारों को पानी मिलेगा बल्कि खेतों की सिंचाई भी हो सकेगी. उन्होंने यह नहर सिर्फ अपने फायदे के लिए नहीं बनाई है बल्कि पूरे इलाके की मदद करने के लिए बनाई है.” 

बिहार के गया के लहथुआ इलाके में अपने गांव कोठीलावा के खेतों से आस-पास की पहाड़ियों से आने वाले वर्षा जल को लेने के लिए एक व्यक्ति ने 3 किलोमीटर लंबी नहर खोद दी है।  लौंगी भुइयां कहती हैं, “इस नहर को खोदने में मुझे 30 साल लग गए जो गाँव के एक तालाब तक पानी ले जाती है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

महमदपुर नरसंहार के खिलाफ श्री राजपूत करणी सेना ने हत्यारें का सिर कलम करने पर 5 करोड़ का रखा इनाम।

बिहार के सभी निजी और सरकारी स्कूल दिनांक 19 जून 2021 से 15 जून 2021 तक रहेंगे बंद । इस विषय के साथ वायरल...

सोशल मीडिया पर बिहार विद्यालय शिक्षा बोर्ड के द्वारा जारी किया गया एक लेटर बहुत ही तेजी से वायरल हो रहा है...

भोजपुरी अभिनेता खेसारी लाल यादव के ऊपर लखनऊ में हुआ केस दर्ज। फ़िल्म निर्माता के बेटे को धमकाने का है आरोप

भोजपुरी अभिनेता खेसारी लाल यादव ने फिल्म निर्माता के बेटे को धमकाया, लखनऊ में केस दर्ज-----------------------------------✍️गुड़ंबा कोतवाली में भोजपुरी फिल्म अभिनेता शत्रुघन...

सीतामढ़ी जिले के चोरौत प्रखंड की बेटी रिंकू कुमारी अब बिहार से कई सौ किलोमीटर दूर भारत के असम बॉर्डर पर रहकर करेगी...

चोरौट:- आप सभी को यह बताते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि अभी कुछ ही दिन पहले एसएससी जीडी 2018 का...

Recent Comments