Sunday, May 2, 2021
Home देश भारत नेपाल बॉर्डर पर पसरा सन्नाटा । अब किसान अपने खेतों में...

भारत नेपाल बॉर्डर पर पसरा सन्नाटा । अब किसान अपने खेतों में जाने से भी डर रहे हैं

बैरगनिया: इंडो-नेपाल के मलंगवा-सोनबरसा बॉर्डर पर नेपाल सशस्त्र पुलिस द्वारा की गई फायरिंग में भारतीय नागरिक की मौत के बाद शनिवार को बैरगनिया-गौर बॉर्डर पर सन्नाटा पसरा रहा. नोमेन्स लैंड से सटे मसहा नरोत्तम, मुसाचक, भकुरहर, सिंदुरिया के लोग अपने अपने सीमावर्ती खेतो में भी काम करने गए. बॉर्डर से मात्र 200 मीटर पर अवस्थित मसहा आलम पुरानी घडाड़ी निवासी शिवराज दास ने बताया कि वह प्रतिदिन बॉर्डर के उस पार ब्रह्मपुरी गांव में कृषि कार्य से जाते थे परन्तु नेपाल पुलिस की सख्ती के कारण आज नहीं गए है. वही आदमवान के इंद्रजीत राउत बॉर्डर पीलर संख्या 342/ 2 बागमती नदी के पास धान का बीज खेतो में बोते मिले बताया कि अब लगता है भारत-नेपाल में आवाजाही करने के लिये भी पासपोर्ट लेना पड़ेगा. मुसाचक – लक्ष्मी पुर बेलविच्छवा बॉर्डर पर नेपाल सशस्त्र पुलिस ड्यूटी पर तैनात थे परन्तु भारतीय सीमा क्षेत्र में नेपाल जाने वाली सड़को को बांस बल्ला लगा कर घेर दिया गया था. हालांकि वहां कोई सुरक्षा बल नहीं मिले.

बलुआ टोला के शिवशंकर भगत ने बताया कि वह नोमेन्स लैंड के उस पार नेपाल के लक्ष्मीपुर में बटाई खेती करते है. इस बार लंबे समय तक बॉर्डर सील रहने के कारण वे खेतो में लगे गेंहू के फसल को इधर नहीं ला सके क्योंकि नेपाल पुलिस बॉर्डर पार नहीं करने दिया. कोविड-19 के कारण 22 मार्च से ही भारत-नेपाल सीमा सील रहने के कारण बैरगनिया व गौर बाजार में वीरानगी छा गयी है. अनलॉक डाउन में दुकान खोलने की छूट तो मिल गयी परन्तु 70 फीसदी नेपाली ग्राहकों से चलने वाली बैरगनिया की दुकाने अभी भी वीरान है. वही विदेशी सामग्रियो की खरीदारी के लिये नेपाल  जाने वाले भारतीय नागरिक बॉर्डर सील होने के कारण गौर नही जा पा रहे है. जिसके कारण टेम्पो, तांगा भी सड़को पर नही चल रही है.हालांकि तस्करी के धंधे से जुड़े लोग बॉर्डर सील होने के बाबजूद भी खुली सीमा का लाभ उठाकर चोरी छिपे आवाजाही कर रहे है.बैरगनिया कस्टम कार्यालय के अधीक्षक जे के एक्का ने बताया कि बॉर्डर सील होने के बाबजूद आयात-निर्यात का काम पूर्व की तरह कुछ सावधानियों के साथ चल रहा है. प्रति दिन यहां से सभी सामानों को नेपाल भेजा जा रहा है. बताया कि वाहन के चालको को क्वारेंटिन होना पड़ता है. एसएसबी के सहायक सेनानायक अनुराग ने बताया बॉर्डर पर किसी प्रकार की ढील नही है बताया कि 80 दिनों से बॉर्डर सील है. लोगो की आवाजाही पूरी तरह बन्द है परन्तु सीमा शुल्क कार्यालय के निर्देश पर आवश्यक सामग्रियो का निर्यात किया जा रहा है.
फोटो- सील बैरगनिया-गौर बॉर्डर पर पसरा सन्नाटा, मुसाचक-लक्ष्मीपुर बेलविच्छवा बॉर्डर पर लगा बांस बल्ला पसरा सन्नाटा।

पसरा सन्नाटा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

महमदपुर नरसंहार के खिलाफ श्री राजपूत करणी सेना ने हत्यारें का सिर कलम करने पर 5 करोड़ का रखा इनाम।

बिहार के सभी निजी और सरकारी स्कूल दिनांक 19 जून 2021 से 15 जून 2021 तक रहेंगे बंद । इस विषय के साथ वायरल...

सोशल मीडिया पर बिहार विद्यालय शिक्षा बोर्ड के द्वारा जारी किया गया एक लेटर बहुत ही तेजी से वायरल हो रहा है...

भोजपुरी अभिनेता खेसारी लाल यादव के ऊपर लखनऊ में हुआ केस दर्ज। फ़िल्म निर्माता के बेटे को धमकाने का है आरोप

भोजपुरी अभिनेता खेसारी लाल यादव ने फिल्म निर्माता के बेटे को धमकाया, लखनऊ में केस दर्ज-----------------------------------✍️गुड़ंबा कोतवाली में भोजपुरी फिल्म अभिनेता शत्रुघन...

सीतामढ़ी जिले के चोरौत प्रखंड की बेटी रिंकू कुमारी अब बिहार से कई सौ किलोमीटर दूर भारत के असम बॉर्डर पर रहकर करेगी...

चोरौट:- आप सभी को यह बताते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि अभी कुछ ही दिन पहले एसएससी जीडी 2018 का...

Recent Comments