Tuesday, April 13, 2021
Home एंटरटेनमेंट मैथिली ठाकुर के गाने "मिथिला में की नई छै" से समस्या तो...

मैथिली ठाकुर के गाने “मिथिला में की नई छै” से समस्या तो होनी ही थी.. बिहार का नाम हो, ये हमसे कैसे बर्दाश्त होगा?

मैथिली ठाकुर- लड़की है! उम्र में छोटी है! और तो और, गिरोहों की सदस्यता भी नहीं ले रखी है! ऐसे कैसे अपना राजनैतिक मत प्रकट कर सकती है? अरे कम से कम सुगर फ्री पीढ़ियों से सर्टिफिकेट तो लिया होता! मैथिली ठाकुर के गाने पर विवाद तो होना ही था। आश्चर्य की बात यह है कि यही विवाद तब नहीं छिड़ा था जब जनकवियों के लिखे गीतों को यूट्यूब पर रिलीज करने पर लोग उसके खिलाफ बोल पड़े थे। तब इन्हीं सूरमाओं को याद नहीं आई थी कि लोकगीतों को, कविताओं को कोई अपनी बपौती नहीं बता सकता। लेकिन फिर सही भी है, याद आती भी कैसे?

थोड़े ही दिन पहले जब मगध के मुख्यमंत्री की सरकार के लिए काम करने वालों ने स्थानीय उत्पादों के लिए जीआई टैग देने का काम शुरू किया तो भी ऐसा ही देखने को मिला था। मगही पान को तो मगही पत्ता के नाम से मान्यता दी गई लेकिन मिथिलांचल के मखाना की बात आते ही बात बदल गई। पुर्णिया जिले के “मिथिलांचल मखाना उत्पादक संघ” (एमएमयूएस) ने बिहार एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के माध्यम से ये आवेदन दिया था। सभी को ये ज्ञात है कि मखाना केवल मिथिलांचल में उपजाया जाता है, ये पूरे बिहार में नहीं उपजता। इसके अलावा भी कहावतों में मिथिलांचल की पहचान “पान, पाग और मखान” बताई जाती है।

इसका नाम मिथिलांचल के बदले बिहार क्यों रखा जा रहा था, इस पर इन तथाकथित प्रगतिशील गिरोहों ने कोई आवाज नहीं उठाई थी। मिथिलांचल के क्षेत्र से भारत के कुल उत्पादन का 75 प्रतिशत मखाना उपजता है। इसका नाम मिथिलांचल से छीनकर किसी और को देने के खिलाफ दरभंगा के पूर्व सांसद कीर्ति आजाद ने भी आवाज उठाई थी। तकनिकी कारणों से मसला अटका और मिथिलांचल की संपत्ति कोई और लूट नहीं पाया। यहाँ सवाल ये भी है कि जब बिहार की ब्रांडिंग लिट्टी-चोखा के नाम पर होती है, तो भला मखाना जो मिथिलांचल में होता है, उसे भुलाया क्यों जाता है?

आखिर ऐसी चीज़ों के बारे में ही तो कोई छोटी सी लड़की याद दिलाने निकली थी! सामंतवादी पुरुषों को लड़की का बोलना भला कैसे बर्दाश्त होता? अगर बिहार की चीज़ों को पहचान मिलने लगे, मिथिलांचल का मखाना या गया का तिलकुट, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचाना जाने लगे, ये उनसे बर्दाश्त कैसे होगा?

उनकी स्थिति तो सड़क के किनारे के उन भिखारियों वाली है जो बच्चों को अफीम चटा कर इसलिए बेहोश रखते हैं ताकि उन्हें दयनीय दिखाकर ज्यादा भीख ली जा सके। अगर कोई बिहारी, राज्य के सम्मान की बात करने लगे, गर्व से अपनी संस्कृति अपनी सभ्यता का प्रदर्शन करने लगे तो उन्हें दिक्कत होनी ही थी। इससे उन्हें मिलने वाले फंड जो कम हो जाएँगे! फिर कभी बाढ़ कभी बीमारी के नाम पर चंदा आना बंद हो गया तो?

मुगालते और मुंगेरीलाल के हसीन सपनों की दुनिया में जीने के आदि इन लोगों की सबसे बड़ी समस्या है रीढ़ की हड्डी की कमी। बिहार का नाम खराब करने में अकेले लालू यादव का योगदान नहीं है। लालू यादव के चारा घोटाले में पकड़े जाने, जेल जाने पर बात ख़त्म हो जाती। उसे कला-साहित्य के माध्यम से आम बिहारी की पहचान बनाने में तथाकथित बुद्धिपिशाचों ने प्रबल योगदान दिया।

बरसों तक फिल्मों का खलनायक और भ्रष्टाचारी नेता एक ख़ास किस्म की लालू यादव वाली बिहारी भाषा बोलता दिखाया गया। सिवाय मायानगरी की फिल्मों के ये भाषा बिहार में कहीं नहीं बोली जाती। लेकिन ऐसी पहचान बनाने में बिहारियों का चंदे पर पलने योग्य, गरीब, कुचला हुआ, हाशिये पर धकेला गया दिखाने में उन्हें सुविधा होती थी।

साभार:- ऑपइंडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

महमदपुर नरसंहार के खिलाफ श्री राजपूत करणी सेना ने हत्यारें का सिर कलम करने पर 5 करोड़ का रखा इनाम।

बिहार के सभी निजी और सरकारी स्कूल दिनांक 19 जून 2021 से 15 जून 2021 तक रहेंगे बंद । इस विषय के साथ वायरल...

सोशल मीडिया पर बिहार विद्यालय शिक्षा बोर्ड के द्वारा जारी किया गया एक लेटर बहुत ही तेजी से वायरल हो रहा है...

भोजपुरी अभिनेता खेसारी लाल यादव के ऊपर लखनऊ में हुआ केस दर्ज। फ़िल्म निर्माता के बेटे को धमकाने का है आरोप

भोजपुरी अभिनेता खेसारी लाल यादव ने फिल्म निर्माता के बेटे को धमकाया, लखनऊ में केस दर्ज-----------------------------------✍️गुड़ंबा कोतवाली में भोजपुरी फिल्म अभिनेता शत्रुघन...

सीतामढ़ी जिले के चोरौत प्रखंड की बेटी रिंकू कुमारी अब बिहार से कई सौ किलोमीटर दूर भारत के असम बॉर्डर पर रहकर करेगी...

चोरौट:- आप सभी को यह बताते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि अभी कुछ ही दिन पहले एसएससी जीडी 2018 का...

Recent Comments