Friday, February 26, 2021
Home परिवार की तलाश 20 साल बाद एक गुमशुदा अपने मां बाप और गांव की तलाश...

20 साल बाद एक गुमशुदा अपने मां बाप और गांव की तलाश में लौटा सीतामढ़ी। नहीं मिल रहा उनका परिवार और उनका गांव…..

सीतामढ़ी से NewsBihar24 के संवादाता Pandey G की रिपोर्ट

ये जो आदमी आप लोग देख रहे है उसकी कहानी ये है की यह आज से 20-25 साल पहले जब इसकी उम्र लगभग 8 या 9 साल रही होगी तब यह अपने गाँव से भाग गया था

अब जब पूरी दुनिया इस कोरोना महामारी से जूझ रहा है और शहरों में रहने और खाने को नहीं मिल रहा है किसी को कुछ तब इस मुश्किल घड़ी में इसे याद आया अपना परिवार और अपना गांव । मगर इसके लिए जो सबसे बड़ी कठिनाई की बात है वह यह है कि इसे बस इतना याद है कि इसका नाम भूनेश्वर था और इसके पिता का नाम रामचंद्र था।
इसके गाँव में एक शिव मंदिर था और उस गाँव का नाम बिशनपुर था और ज़िला सीतामढ़ी था।

अब मुश्किल यह है कि सीतामढ़ी जिले में लगभग 10 या 12 ऐसे गांव है जिसका नाम बिशनपुर है और ना जाने उन सभी बिशनपुर गांव में कितने ही रामचंद्र हैं । इसके साथ ही एक मुश्किल यह भी है किसके पास कोई भी ऐसा प्रूफ नहीं है जिस पर कि इसका नाम इसके पिता का नाम या फिर के गांव का एड्रेस हो। अब ऐसे में इनके गांव का पता लगाना हम सबकी जिम्मेदारी बनती है कि हम इन्हें इनका अपना गांव उनका अपना परिवार इन्हें ढूंढ कर दे ।

यह सब सुनकर आप लोगों के जेहन में यह सवाल जरूर उठता होगा कि आखिर इतने बड़े इंसान जिसकी उम्र आज लगभग लगभग 35 साल हो चुकी है तो कैसे उसे अपना गांव उसे अपना परिवार याद नहीं है ??

हो सकता हो कि जब यह अपने गांव से आज से 25 साल पहले भागा घर छोड़कर तो उस समय कुछ इसकी दिमागी हालत ठीक ना रही हो । और शायद ये अपना दिमागी संतुलन खो चुके हैं । मगर इन्हे इतना जरूर याद है कि इनका नाम भुवनेश्वर है और उनके पिता का नाम रामचंद्र और यह सीतामढ़ी जिले के बिशनपुर गांव के रहने वाले हैं जिस गांव में एक शिव मंदिर भी है

अब ऐसे में इनके परिवार को ढूंढना हम सबकी जिम्मेदारी है हम आप सभी से यही अनुरोध करेंगे इस फोटो को गौर से देखिए और पता कीजिए जो भी सीतामढ़ी जिले के किसी भी विशनपुर गांव के रहने वाले हैं या किसी का भी कोई वहां के परिचित है वह वहां पता करके यह जरूर बताएं । कि ये आदमी वहां के किसी भी रामचंद्र नाम के फैमिली से परिचित हैं।

इस फोटो को ध्यान से देखिए और अपने फोन में सेव कीजिए जिस किसी को भी पता चलता है इनके परिवार और इनके बारे में वह हमें जरूर कांटेक्ट करें इस व्हाटसएप पर।

मानवता के इतिहास में यह सबसे बड़ी पहल होगी जब हम एक 35-40 साल के नौजवान इंसान को उनका घर उनका परिवार ढूंढकर उनके फैमिली के पास पहुंचाएंगे ।

आप लोगों की मेहनत जरूर उन्हें अपने परिवार से मिला देगा कोशिश कीजिए इनके बारे में जिनको भी जानकारी मिले वो ज्यादा से ज्यादा जानकारी जुटाए और गांव में जाकर पता करने की कोशिश करें कि क्या कोई ऐसा इंसान था जो आज से 20 साल पहले भाग गया हो घर छोड़कर किसी कारणवश और आज तक लौट कर ना आया हो।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

दिल्ली से दरभंगा तक अपने बीमार पिता को साईकल पर बिठाकर लॉक डाउन में गाँव पहुँचने वाली साईकिल गर्ल ज्योति को मिला राष्ट्रीय बाल...

दरभंगा से news bihar 24 के लिए राम शरणागत मिश्र की रिपोर्ट दरभंगा प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2021...

जिया हो बिहार के लाला!:नाज करेगा सीतामढ़ी; कैप्टन कमरुल जमां राजपथ पर ब्रह्मोस दस्ते को लीड करेंगे; अब्बू-अम्मी ने कर्ज ले पढ़ाया था

जिया हो बिहार के लाला!:नाज करेगा सीतामढ़ी; कैप्टन कमरुल जमां राजपथ पर ब्रह्मोस दस्ते को लीड करेंगे; अब्बू-अम्मी ने कर्ज ले पढ़ाया

चोरौत में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 वीं जयंती पर आयोजित किया गया प्रतियोगता परीक्षा और बच्चो को किया गया सम्मानित

चोरौत:- नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर बहुत ही धूम धाम से उनके चित्रछाया पर पुष्प अर्पित कर उनकी...

चॉरौत के सकरम गांव के एक घर में हजारों की चोरी

सकरम:- पिछली रात जब सारा गांव सो गया तब सकरम के शिव मंदिर के पास स्थित रामाश्रय मिश्र के घर में चोरो...

Recent Comments